गोमय रसयूक्त वेदनानाशक तेल

  1. घटक पदार्थ एवं उनकी मात्रा
    1. सरसों का तेल 1 लीटर
    2. छोटी कलीके लहसुन 100 ग्राम
    3. निर्गुंडी 100 ग्राम
    4. हड़जोड़ वनस्पति 100 ग्राम
    5. गोमय रस 100 मिलीलीटर
    6. अमृतधारा अथवा निलगिरी तेल 10 मिलीलीटर
  2. बनाने की विधि
    1. लोहे की कड़ाही में सरसों का तेल लेकर दूल्हे पर तपाएं ।
    2. खलबत्ते में कुटे हुए लहसुन, निर्गुंडी और हड़जोड़ एक-एक कर इस तेल में मिलाते जाएं ।
    3. अंत में गोलय रस डालकर मन्द आंच पर तेल उबलने दें ।
    4. तेल से पानी का अंश पूर्णतः निकल जानेपर कडाही चूल्हे से उतार लें ।
    5. तेल से पानी का अंश पूर्णतः निकल गया है कि नहीं, यह जांचने के लिए आगे दिया परीक्षण करें ।
      • तेल उबलते समय उसकी सतह पर बुलबुले आने बंद हो जाएं और झाग आने लगे, तब समीझए कि तेल बन गया है । ऐसे समय तेल में पानी की एक बूंद छोड़ने पर तड़तड़ की ध्वनि होने लगती है ।
      • तेल के नीचे बैठे हुए घन पदार्थ को चम्मच में से निकालें । इसे ‘कल्क’ कहते हैं । इसे फूंक मारकर ठंडा करें और उंगलियों पर लेकर छोटी बत्ती बनाएं । इस बत्ती को जलाएं । बत्ती चट्- चट् की ध्वनी कीए बिना शांति से जले, तब समझे कि इसमें पानी नहीं है और आंच बंद करें । यदि बत्ती जलते समय आवाज आए, तो मंद आंच पर पानी पूर्णतः निकल जाने तक तेल उबलने दें ।
    6. इस तप्त तेल को स्टील की छन्नी से छान लें ।
    7. तेल ठंडा होने पर उसमें अमृतधारा अथवा नीलगिरी तेल मिलाकर बोतल में भरकर रख दें ।