केशंसवर्धक तेल

घटक पदार्थ और उनकी मात्रा

  1. तिल का तेल : एक लीटर
  2. ताजा भ्रंगराज : 100 ग्राम
  3. नए पहाड़ी आंवले : 50 ग्राम
  4. ब्राह्मी : 25 ग्राम
  5. नागरमोथा : 10 ग्राम
  6. गोमूत्र : 100 मिलीलीटर

 

बनाने की विधि

  1. लोहे की कडाही में तिल का तेल चूल्हे पर तपाएं ।
  2. भ्रंगराज, आंवला, ब्रह्मी और नागरमोथा खलबत्ते में अलग-अलग कूट कर एक-एक कर तेल में डालते रहें ।
  3. अंत में उसने गोमूत्र छोड़कर मन्द आंच पर उबालें ।
  4. तेल से पानी का अंश पूर्णतः निकल जाने पर कडाही को चूल्हे से उतार दें ।
  5. तेल जब तप्त रहे, तभी स्टील की छन्नी से छान लें ।
  6. तेल ठंडा होने पर बोतल में भर कर रख दें।